रामबरन शर्मा को मध्य‍भारतीय हिन्दी साहित्‍य सभा ग्‍वालियर का युवा साहित्‍यकार सम्‍मान-2013

DSC05115

मध्‍यभारतीय हिन्‍दी साहित्‍य सभा, ग्‍वालियर द्वारा दिया जाने वाला युवा साहित्‍यकार सम्‍मान 2013 मुरैना के युवा कहानीकार, कवि एवं समीक्षक रामबरन शर्मा सरस्‍वीपुत्र को प्रदान किया गया। निराला जयंती और बसंत पंचमी के अवसर पर संस्‍था के दौलतगंज स्‍थित पुस्‍तकालय सह सभाभवन में एक आयोजन के दौरान उन्‍हें यह सम्‍मान प्रदान किया गया। आयोजन की अध्‍यक्षता कर रहे निराला सृजनपीठ भोपाल के निदेशक डॉ दिवाकर वर्मा एवं मुख्‍य अतिथि के रूप में उपस्‍थित राजा मानसिंह संगीत विवि की कुलपति डॉ (श्रीमती) स्‍वतंत्र वर्मा के हाथों यह सम्‍मान दिया गया।
दौलतगंज स्‍थित, वर्ष 1902 में स्‍थापित एवं अनेक राष्‍ट्रीय साहित्‍यकारों की उपस्‍थित और स्‍मृतियों को समेटने वाले भवन में आयोजित समारोह में नगर के प्रतिष्‍ठित वरिष्‍ठ कविगण, साहित्‍यप्रेमी एवं विद्यार्थीगण उपस्‍थित थे। आयोजन में सम्‍मान-पत्र एवं 1100 रूपये नगद राशि प्रदान की गई।

कार्यक्रम को सम्‍बोधित करते हुए निराला सृजनपीठ के निदेशक श्री वर्मा ने महाप्राण निराला को मार्क्‍सवादी अर्थ में प्रगतिशील कहे जाने के पुनॅमूल्‍यांकन की आवश्‍यकता बल दिया। उन्‍होने निराला जी के स्‍वाभिमान एवं हिन्‍दी व साहित्‍यकारों के प्रति गौरवभाव के लिए सचेत रहने व विद्रोही प्रकृति पर प्रकाश डालतें हुए मुख्‍य वक्‍तव्‍य दिया।
कार्यक्रम में मुख्‍य अतिथि की आसंदी से डॉ स्‍वतंत्र शर्मा ने कहा कि साहित्‍य और संगीत का पर्यायबोधक सम्‍बन्‍ध है। संगीतकार साहित्‍य से अपना उपजीव्‍य लेता है। उन्‍होने इलाहाबाद में अपने बचपन की यादों में अनेक वरिष्‍ठ साहित्‍यकारों के सानिध्‍य का उल्‍लेख किया। विशेषकर महादेवी वर्मा जी के अनेक गीतों को संगीतबद्ध किये जाने की यादों को ताजा किया। महादेवी जी के एक गीत का भी उन्‍होने सस्‍वर गायन किया।
इससे पूर्व सम्‍मानित होने पर युवा साहित्‍यकार रामबरन सरस्‍वतीपुत्र ने अपने विचार व्‍यक्‍त करने के साथ ही कवितापाठ से सभी को मंत्रमुग्‍ध कर दिया। सरस्‍वती शिशु मंदिर के विद्यार्थियों द्वारा सरस्‍वतीवंदना प्रस्‍तुत की गई। तथा विद्वतजन व विदुषियों ने निराला के चर्चित-अचर्चित गीतों के पाठ से सभा को आनंदित किया। आभार अध्‍यक्ष बसंत पुरोहित ने किया।

DSC05128

DSC05122

DSC05132
DSC05105

DSC05097

DSC05098
(सर्जना के लिए कार्यक्रम स्‍थल से डॉ रामकुमार सिंह)

Advertisements