जरदान……..एक गंवई का इन्टरव्यू / कहानी


”जे मोड़ा भारी बदमाशएँ …..देखि लेऊ……मेई नेकरए धूरि में लपेटि कें झारि पे टांगि आयेएँ” जरदान दाँत पीसते हुए शिकायत करने उस तरफ आ ही रहा था, जहाँ हम चार लोग कुर्सियाँ डालकर बैठे थे, इतने में एक उपद्रवी लड़के ने उसकी पीठ पर धूल रगड़ दी। ‘मान जा’…..’मान जा’ की आवाज लगाता हुआ जरदान थोड़ी दूर तक उसके पीछे दौड़ा फिर आ बैठा हैंडपम्प के पास। काली नेकर में उघाड़-पुघाड़ जरदान गोरखनाथ परम्परा का पूरा अवधूत जैसा दिखाई देता है। मोटी तोंद आगे निकल रही है। अभी नहायेगा – जब सूयदेव भी ‘संध्या-हाउस’ की ओर प्रयाण करने का मन बना रहे हैं, फिर सूखे कुयें की पार पर जा टिकेगा या पीली सरसों के खेत के सिरहाने डली पटिया पर। कभी काले कुत्तो को दूर तक हाथ हिला हिला कर खदेड़ आता है …..कोई नहीं कहे तब भी। यह जाहिर करने का पूरा नकली प्रयास कि वह बड़ा कमेरा है, और कुत्तो को खदेड़ कर उसने कर्मण्य-संसार में एक विराट मिशाल कायम की है।
उसे किसान कहूँ या मजदूर। अब किसनई के लिए उसकी कोई जमीन रही नहीं और ना हीं कोई परिवार । कोई आगे-पीछे नहीं। चम्बल पार से इस तरफ आ गया है। मजदूर इसलिए नहीं …कि एक दबाब ओर बँधुआपन जो होता है वह उस पर कतई नहीं। हवेली वाले बोहरे जी के सानिध्य में टिक्करों का जुगाड़ हो जाता है या सामने वाले पुरा पर। पता नहीं ……..कहीं भी पा लेता है जरदान। एक दिन बोला – ”माड़साब! माड़साब! बा पेड़ पे नौता टँगोए” ”क्या बक रहा है रे ! पेड़ पर कहीं न्यौता टंगे होते हैं ?” मैंने चिढ़ते हुए कहा। ”अरे माड़साब सांची के रऊँ, नीम पे माइक कसौए, धुँआ उठि रओए, रामान बँचीए, नौता होगो जरूल।” जरदान ने न्यायसिध्दांत के आधार पर धुँआ, माइक, रामचरितमानस पाठ आदि संकेतों को न्यौता का पक्का आधार निरूपित करते हुए मुझे जबाब प्रस्तुत किया।
न्यौते का शौकीन और जुगाडू – जरदान। लेकिन स्वाभिमानी इतना कि बिना न्यौता के भोजन नहीं करता। स्व-स्मृति दिलाने का नायाब तरीका भी है जरदान के पास। न्यौता-स्थल से सिर पर साफी कसकर निकलेगा – हाथ का पंजा तानकर गंभीर मुद्रा में राम-राम करेगा – उसे देखकर किसी न किसी को ध्यान आ ही जायेगा…… और जरदान का न्यौता तैयार।
ऊँचा सुनता है जरदान। कान का मैल जीवन में साफ नहीं किया। भैंस की खाल जैसी पीठ तो हो ही गई है। ऐसे ही मैलाधिक्य के कारण कान का परदा कुंदे छोड़कर नीचे आ गया होगा, ऐसा जरदान के वर्षों पुराने सतत-दर्शियों का मानना है। कान पर गायकों के मानिंद हाथ रखकर जरदान बड़ी ही नजाकत से दूसरे की बात सुनता है। पक्का खबरिया। एमपी, यूपी, राजस्थान के बीहड़ी ग्रामों से गुजरते हुए अफवाहनुमा शंखकर्णी खबरें जरदान पर एकत्र हो जाती हैं। एक दिन सुनाने लगा – ”माड़साब! गूजरन पे बड़े भारी लट्ठ परेएँ राजिस्थान में। लाल गुलम्बर पे कारे मूड़ वाए करेण्ट को डण्डा लेकें फिरि रयेएँ। गूजर दीखे नईं …….के चटाक्!!”
जरदान खुद गुर्जर है। जब गुर्जरों का आंदोलन चल रहा था तो अखबार, रेडियो और शहर-आगत भद्रजनों से उसे एक ही प्रश्न के उत्तर की आशा रहती थी – ”कै मरि गए ? कै बचि गए?” जरदान की युध्द-वर्णन शैली मामले को ज्यादा भयावह बना देती। टीवी चैनलों के दर्शकों भी जब वही खबर जरदान के मुखारबिन्द से सुनवायी जाये तो श्रोता एक-दूसरे का हाथ पकड़कर घर तक जायें। कौन से नेता के दिमाग में क्या षडयंत्र चल रहा है और किसी घटना के वास्तविक निहितार्थ क्या हैं ये वेदप्रताप वैदिक और राजदीप सरदेसाई भी जरदान-व्याख्यानुसार सुने तो दाँतो तले ऍंगुली दबा जायें।
प्रथम भेंट में इस नवागत ‘माड़साब’ से पहला सवाल जरदान ने यह किया – ”तेई नौकई लगि गईए? बु डाड़ी बाओ सरदार सिग देस के मास्टरनए नौकई की तनखाए देतुए ? पूरे देस को बुइए………एकई मालिकुए? देश के प्रधानमंत्री के विषय में उसके गहन ज्ञान और दाड़ी के वाचिक रेखाचित्र का इशारों के साथ वर्णन सुनकर मैं अपनी अल्पज्ञता पर संकुचित हुआ।
एक दिन जरदान पटिया पर करवट लिये लेटा था। खेत की तरफ मुँह था और हम भलेमानुसों की तरफ पीठ। आज क्या बात है? ये बोल क्यों नहीं रहा? पता चला कि बुखार से तप रहा है। एक फोड़ा भी हो गया है। पूरा शनीचर है। नहाता है नहीं। बड़ी देर बाद जरदान के श्रीमुख से उद्गार निकले। प्रतीकात्मक शैली के अंतर्राष्ट्रीय अंग्रेजी कवि की तरह स्थानीय बोल थे, जिसका आशय था कि गलगलिया (एक चिड़िया) को बुखार आ गया ….कौआ उसकी नब्ज जाँचने बैठा है। थोड़ी ही देर बाद गलगलिया का ‘ब्यॉय-फ्रेण्ड’ कबूतर आ गया ….खूब घुट-घुटकर बातें होने लगीं-
”गलगलियाए चढ़ी तिजाई / कौआ देखे नाड़ी
जाको यार कबूतर आयो / बु तो घुटि-घुटिकें बतरायो
खांसी औरु कफु जाये / दुख पावे रे जद्दान
ढोला मेरो चढ़ो करौली की घटिया / जाको बध्द बिचो ना नटिया
नरवर वारो सूप गांठि रओ / भूप चलाय रओ चाकी
नल देतु चाकी में टल्ले / चून के है रए रे गल्ले”

अप्रत्याशित कविता-योजना बुखार और कफ-सीरप से होते हुए पुरातत्ववेत्ता जरदान के दृष्टि-निक्षेप का माध्यम पाकर करौली के पर्यटन मार्ग और नरवरगढ़ के किले का वस्तु-स्थल वर्णन भी कर देगी, यह अनुमान नहीं था।
बीच-बीच में जरदान कई दिनों के लिए गायब हो जाता है। हम लोग पूछते रहते हैं…….भई जरदान नहीं दिखा आज। और बात आई – गई हो जाती है। एक बार की बात। खबर आई कि जरदान को ट्रेक्टर में डालकर ‘बजार के असपताल’ में ले गये हैं….इमरजेंसी है। उसकी हालत बहुत खराब है। हम सबके चेहरे फक्क हो गए। कैसा भी हो, आखिर रोज मिलता तो था। क्या हुआ? कैसे हुआ? सवालों की झड़ियाँ लग गईं। मुआमला यह नजर हुआ कि टिक्करों से उकता चुके जरदान साहब पहँच गये ‘झिन्ना बाबा के अस्थान’ पर। बीहड़ के इस सुरम्य धार्मिक स्थल पर ग्राम्य-श्रृध्दालुओं की भीड़ खूब होती ही है। जरदान पीली साफी बाँधकर आसन जमाकर बैठ गया। खीर, सूजी, बरफी, मालपुए……..एक दिन……दो दिन…….तीन दिन ……। झिन्ना बाबा के भोग की जय हो। खाते गये….खाते गए……। पेट नगाड़ा हो गया और गाड़ी-पछाड़। बेहोश जरदान के सम्बन्ध में अनुमानित डाक्टरी जाँचों से स्पष्ट हुआ कि ब्लड-शुगर ने सारे रिकार्ड ध्वस्त कर दिये हैं और निरंतर भोजनाधिक्य से रक्तचाप, सभी चापों में मूर्धन्य हो गया है।
बहुत दिनों बाद स्वस्थ जरदान के दर्शन हुए। दूर से ही पंजा चौड़ा करके राम-राम कर रहा था। उसका इलाज ‘प्रतिष्ठित’ ग्राम्यजनों के सौजन्य से हुआ, जिनके मौजूद रहते जरदान का स्वर्गारोहण उनकी सामाजिक अस्मिता को चुनौती होता। बस इसी घटना के बाद से जरदान भोजन-भय से आक्रांत हो गया। अब खीर के नाम से जरदान लार जरूर टपकाता है मगर कान पकड़े रहता है, जिससे सीमा का ध्यान बना रहे। ‘अस्थान’ वाली घटना से पहले उसने ‘बमूर की लकईया की सुमिन्नी’ (बबूल की लकड़ी की छोटी माला) बनाई थी। पटिया पर बैठकर बाबा होने का पूर्वाभ्यास करता था। तब कुछ शक तो हुआ था। पटिया पर पीले अगोंछे में मासपूर्वस्नात (एक माह पूर्व स्नान किये हुए) जरदान दिव्य-संत जैसे अधखुले नेत्र और उलटी माला जपते हुए विराजता था। अब वह प्रक्रिया ठप्प है। बबूल की 24 कैरेट माला का कहीं अता-पता नहीं। जिसका एक-एक मनका कुएँ की गिर्री का ज्येष्ठ-पुत्र लगता था। तब तो वह कहता था – ”माड़साब मेएँ कोऊ आंगें-पीछें हत नानें। अब तो हूँ बाबाजी हे गओ”। कुछ दिनों में उकता कर जरदान ने अंतत: उस अभिनय-व्रत का अघोषित उद्यापन कर दिया।
चुनावों में जरदान की चाँदी। चारों तरफ लंगर चलते हैं। जरदान के बनाये नारों और तुकबंदियों की धूम। ऐसी ‘कपिता’ (कविता) कि ग्राम्य-जन लोटपोट। बड़ी पूछ-परख होती। उसका यह काम आज से नहीं। जरदान की स्मृतियों में इंदिरा-युग जमा बैठा है। उसकी तद्युगीन यात्रा पर ले जाने वाली तुकबंदियों से यह पता ही नहीं चलता है कि वह किस तरफ है। उसका ‘ढरकाऊपन’ उसकी रचना में भी यथावत् विद्यमान है। जो खिलाएगा उसी के ‘वाद’ की सेवा में तुकबंदी। खाना, तम्बाकू, और दाड़ी बनवाने के नाम पर दौ रुपैया। जरदान माँगता है….मगर ….पूरे स्वाभिमान से। हैसियत का भी हिसाब रखता है। ‘प्रेंसीफल’ से पाँच रूपये से कम नहीं लेगा। कहता है – ”बे तो अधिकारीएँ, बिनकी हेटी नहीं होगी का?”
आज जरदान को पकड़कर बैठा लिया गया। सारा स्टाफ जमा है – ‘जो पैसेंजर से आता है। हुड़दंगी लड़के भी दम साधकर बैठे हैं…….वे जो जरदान की आशुकविता के आस्वादग्रहीता हैं। हर समय जरदान को घूँसा देकर भाग जाने वाले उसकी कविता सुनते समय पूरा गौर करते हैं। आज खबर है कि ‘किताब-कोपिन के झोरा बाय माड़साब जिद्दान को इंटरवू लेंगे’। जरदान नहाकर आ गया है। तेल पोत लिया है। सिर पर साफी कस ली है। उसे ऊँची आवाज में बताया गया है कि ‘फोटू’ का कैमरा आने की भी पूरी आशंका है। बनियान से तोंद ढाँकते हुए जरदान पटिया पर आलथी-पालथी बैठाया गया है। नीम का पेड़ है, सरसों के पौधों ने आधी जीवन-यात्रा तय कर ली है और उसकी पीतवर्णी आभा ग्राम के स्वर्णसम्पन्न होने की उद्धोषणा कर रही है। आज जीवन में पहली बार जरदान के उद्गारों को पंजीबध्द किये जाने का ऐतिहासिक अवसर है। जरदान इस क्षण के लिए पूरी तरह तैयार है। लड़के उसकी पीठ और अगल-बगल में चढ़े बैठ रहे हैं। मैंने पटिया पर जगह बनाकर जरदान की द्रुत-पाठ-गति से समायोजन करने का मन बना लिया है। प्र्रस्तावना शुरू होती है। जरदान से संवाद हो रहा है। पहला प्रश्न उसी की तरफ से-
”मेई कपिता लिखेंगें?”
”हओ” जबाब ग्राम के उद्भट विद्वान दे रहे हैं। इंटरव्यू लेने वाले को बोलने की जरूरत नही।
”बि तो बैसी एँ…..!”
”बि तो अच्छी एँ, तू तो सुना”
”किताबनि में आवेंगीं”
”हओ, तू तो सुना”
”वा पुरा वाए इसकूल के मोड़ी-मोड़ा पढेंगें जि कपितनएँ”
”हओ, पहाडे में आवेंगीं, तू तो सुना”
एक लड़के ने ज्यादा ही उकसाया तब जरदान के कान पर हाथ रखा……सांस ऊपर खेंची और पहली तुकबंदी सभा में मिसाइल की तरह आकर गिरती है-
”देस बिगारो नेतन ने
बहू बिगारी बेटन ने
खेत बिगारो रेतन ने
सड़क बिगारी ठेलन ने
आम बिगारे तोतन ने”
जरदान ने सांस तोड़ी।
”हट्!! लड़कों में से आवाज आयी। औरि अच्छी वाई सुना।”
जरदान ने अपनी गरदन को कुकडूँकूं की तरह ऊपर उठाया। सांस खींची, कान पे हाथ रखा और दूसरी कविता छूटती है-
”डकैती मति डारे बलम
डकैती की बुरी कमाई ए
तोय पुलिस पकरि ले जायगी !
तू थाने अंदर जायगा!
दगरे में जाय रईं चारि गुईंयाँ !
जाको कैसोए सैंया?
नालिन में लेत डुबकैयां!
थाने में खात पनहैंयां !
डलिया बारे पोदीना देजा हरो-हरो
मेई सासुलिया रही मगाय
कहां जातुए सिपाई
तोय मारे लुगैंयां
गाम बड़ी दूरि दिन थोरो रे
दिनु छिपु जाय दूर नगरिया रे”।
जरदान ने सांस फिर तोड़ी। ”बस्सि माड़साब भोतुए?” गद्य में जरदान बोला। एक लड़के ने कोहनी जड़ दी जरदान मे- ”अबई क्हां भईएँ पूरी कपिता?
”पेली बाई सुनाय दऊँ”
”हओ सुनाय दे सपाटे ते”
जरदान ने एक दफा फिर कान से हाथ का जीवंत सम्पर्क कराया और कविता उसके कंठ-कमान से तीर की तरह छूटी-
”इंद्रा भोत रहि लई गादी पे, अब आजा गोबर-पानी पे”
”चल !!! मार परेगी तो पे………एक कांईयाँ भद्र-पुरुष ने बीच में टोक दिया………जि रिपोट करि देंगें तेई थाने में डरो रहेगो सारे!…लिखि सोऊ रहेएँ कांपी में….बेट्टा!!”
इतना सुनना था कि जरदान उचक कर दो फीट दूर। सभा से पलायन-वेग स्थापित कर लिया जरदान ने ” तो मैं ना लिखाय रओ, जा मास्टरए। जरदान मुड़ा ही था कि उसके पंचा की कांछि खोल दी एक ने। दो उसकी भीमकाय देह पर सवार हो गये बेताल की तरह। जरदान ने भीष्म-घोषणा कर दी की गड़बड़ी की आशंका वाली ‘कपिता’ लिखी जायेगी तो वह इंटरव्यू नहीं देगा। ‘सौ बक्का एक लिक्खा’। अनेक प्रकार के रंगे-पुते आश्वासनों के बाद उसे दुबारा तैयार किया गया। ब्रेक के बाद इंटरव्यू पुन: चालू होता है। जरदान पूछता है – ”काय माड़साब! जि सरदार नेता बनाओए ते इंदिरा के मोड़ा की बहूए? ग्राम-विश्लेषकों ने उत्तर दिया – ”हओ!। अब जरदान गाते हुए बोलता है-
”इंद्रा करि रई सहज सुधार, जनता के सुआरथ में
गाम-गाम इसकूल लगाय दये विसविद्यालय के सुआरथ में
इंद्रा करि रई सहज सुधार, फिरि रई जनता के सुआरथ में”

एक नेनो सेकण्ड के भीतर जरदान की भंगिमाएं बदलीं और कविता ऊपर कविता दे मारी-
”इंद्रा तेने गजब करो
तेने चलवाय दई नसबंदी
बलम गयो नसबंदी में
खेत गयो चकबंदी में”
”बस्सि-बसि भोतुए” एक ने रोका।
”एक किसनई की औरि सुनाऊँ? जरदान चालू –
”माह फागुन को जाड़ो रामा , करि गओ सत्यानासी ए
मेड़-मेड़ पे बोरिंग चलि गए, ढरगि चलो जाको पानी ए……………………….
बीच में जरदान का चैनल अनटयून हो गया और इसी कविता में खबरिया चैनल लग गया-
……फतेहाबाद में गाड़ी टूटी, मरी इक लाख असवारी ए
कंचनपुर में लगे मवेसी, बिक्री हे रई अति भारी ए”
जरदान उठा, फिर उसकी ‘घेंटी’ सुधी-श्रोताओं द्वारा पकड़ ली गई। पनहैंया की दम पे उसे बैठा लिया गया। जरदान छुटभैये नेताओं की खूब कविता उतारता है जो गाँव से शहर जाकर बगबगे कपड़े पहनकर नेताओं जैसी शैली अपनाने की कोशिश करते हैं। जरदान उसी कविता को अगले वार के रूप में इस्तेमाल करता है-

”जिनके बाप ना बैठे एक पड़न की गाड़ी में
ते बैठत डोलें कारन में
सूंत गांठि कैं मुण्डा पहिरें
करें कचेई राजनि में,
पीवे दूद ना मिले कमजोरी आय गई भारत में,
बहूबेटिन कों चाकी चलि गई
मरदन कों चले टेकटर फोरड खेतन में,
आजादी आय गई भारत में”।

अब जरदान रुका और मुझसे पूछा – ” काय माड़साब! मोड़ी-मोड़न के पहाड़े में मेई कपिता छपेगी। ”
”आ हाँ छपेगी, जरूर छपेगी”
”औरि फोटू आवेगो?” हाथ का पंजा सीधा तानकर फोटो जैसा बनाते हुए जरदान ने पूछा।
”आयेगा भैया जरूर आयेगा”
”तो पेलें मोय दो रुपैया दे। तू भारी चालाकु ए।”
मोरमुकुट बाबूजी ने उसे खुल्ले दो रुपये थमा दिये। जरदान ने अंटी में खोंस लिये। दो रुपये की उष्णता पाते ही इस बार मंचानुमति से पूर्व ही जरदान की कपिता का तूफान शुरु हो गया-
‘इक लक दो लक तीनि तिलंगा
हरीनाथ के पांचऊ पंडा
घोड़िन की घुड़सालन बोले
बड़ी पौद में सुन्दर बोले
लाल बछेरा पी-पी रे कदम को दूद!
बामन-बामन बांचि रे पोथी!
एक राजा की बेटी!
कबूतर हाथ में लेती!
तमाशो बाग में कत्ताी!
रुपैया रोज को लेती!
अठन्नी ब्याज की लेती!”

”काय रे ! जा कपिता को का अत्थए”
”माड़साब…….मोय……ना पतो…..जि तो मोड़ी-मोड़न कूँ बनाय दई ए”
जरदान की आशुकविताओं से लेकर नारों और तुकबंदियों, गुजरे वक्त की स्मृतियों से चिपकी कविताओं, गांव की मण्डलियों के गीत और प्रोग्राम, पातीराम की भजनावली – सब मिक्स होकर कविताकार हो गये हैं। इस गंवई का इंटरव्यू सकुशल निपट ही रहा था कि गांव के एक और उपद्रवी लड़के ने जरदान की टुण्डी में अंगुली कर ही दी –
”किसनदेई क्हां चली गई? नेक बऊए तो बताय दे”
जरदान को जैसे करंट लगा हो। उछल कर पत्थर उठाया और भागा उसके पीछे – ”सारे ! मारि डारेंगों…..बदमाश कंऊँ के!!”
काफी देर बाद यह मामला शांत हुआ। सभासद प्रस्थान कर गये। अकेले में जरदान को मैंने बिठाया। बाबूजी से तम्बाकू मंगवाकर खिलवाई। फिर धीरे से पूछा- ”जरदान! किसन्देई को है? जरदान का मुखमण्डल लालिमा और क्षोभ के मिश्रित भाव से भर गया, जैसे अतीत के कुहासे को स्मृति के तरलीकरण द्वारा शब्दों के ओस में ढालना चाहता हो- ”किसन्देई भारी सुन्दर हती। सिग मास्टरन की मास्टरनीउ ऐसी नईं होगी। मेई घरवाई हती। अब औरि कें चली गई। अपईं कोंपी में मति लिखिओ मास्टर! मेंए मोड़ी-मोड़ा कोऊ हति नईओ। जमीन भैया-भतीजेन नें …….औरन ने दाबि-दूबि लई। मास्टर! …..मैं राजा हतो……अब कछू नाने। तू जों मति जानिओ कै मैं डाड़ी बनवायवे कों पैसा मांगतों। …..किसन्देई भारी कर्री हती। अलीगढ़ के बदमाशन कों कमरा में मूँदि कें छक्क निकरि आई हती। …….काय मास्टर मेई कपिता आवेगी…..किताब में…? मैंने स्वीकृति में सिर हिलाया, घड़ी देखी, बैग उठाया और स्टेशन की तरफ रवाना हो गया। खेत में सलीके से सिर उठा रहे पंक्तिबध्द पौधे ऑंखें फाड़कर मेरा बेग देख रहे थे जिसमें जरदान वांग्मय भरा था। – डॉ. रामकुमार सिंह

Advertisements