एनसीईआरटी द्वारा पुरस्‍कृत परियोजना का सारांश

Development of activity-based text material for multi-lingual groups
बहुभाषी समूहों के लिए गतिविधि-आधारित मुद्रित पाठ्यवस्‍तु का विकास


1. परिचयात्‍मक :- केन्द्रीय विद्यालय दोणिमलै में परियोजना का लक्ष्य-समूह विशिष्ट है। विशिष्ट व अद्वितीय परिस्थितियों में अधिगम के स्थानांतरण की विशिष्टीकृत प्रविधियों को लेकर शिक्षक दैनंदिन चुनौतियों का सामना कर रहे थे। मातृभाषा से इतर भाषा में अनुवाद के माध्यम से अधिगम का स्थानांतरण उन कक्षाओं में एक सीमा तक प्रभावी हो सकता है जहाँ कक्षा में मातृभाषा से इतर भाषा में अधिगम प्राप्त करने वाले विद्यार्थी एकरूपता के साथ किसी एक भाषा को बोलने वाले हों, किन्तु हमारे विशेष संदर्भ के विद्यार्थियों का लक्ष्य-समूह एक ही समय में विभिन्न भाषाभाषी है। इनमें कन्नड़, तमिल, तेलुगु, मलयालम, बंगाली सहित अनेक मातृभाषाओं व घरेलू भाषाओं के विद्यार्थी हैं।
राष्ट्रीय पाठ्यश्चर्या-2005 अपने घनीभूत निष्कर्षों से हमारा मार्ग आलोकित करती है। एक ओर यह सुझाती है कि बहुभाषिकता बच्चे की अस्मिता का निर्माण करती है, तो दूसरी ओर यह सचेत भी करती है कि बच्चे की मातृभाषा(ओं) को नकारना या उनको मिटाने के प्रयास उसके व्यक्तित्व में हस्तक्षेप की तरह लगते हैं। प्रभावी समझ और भाषा(ओं) के प्रयोग के माध्यम से बच्चे विचारों, व्यक्तियों और वस्तुओं तथा अपने आसपास के संसार से अपने आपको जोड़ पाते हैं।
स्नातकोत्तर शिक्षक हिन्दी, डॉ रामकुमार सिंह ने गणित के कालखण्ड में अपने ‘अरेंजमेंट-क्लास’ के दौरान अवलोकन किया कि उच्च कक्षा के विद्यार्थी गणित की कुछ समस्याओं को समझाने के लिए एक-दूसरे से स्थानीय मिश्रित भाषा का प्रयोग कर रहें हैं, जो प्रथम-दृष्ट्या एक अप्रत्याशित संवाद-शैली लगी। कक्षा-अध्यापक के रूप में शिक्षक ने अवलोकन किया कि कक्षा- 8 वीं में निश्चित ‘रोटेशनवाइज सीटिंग अरेंजमेंट’ तय करने पर भी समान मातृभाषा वाले विद्यार्थी शिक्षक के आने तक आसपास बैठे संवाद करते मिलते है जो शिक्षक के आने पर तेजी से पुनः अपने स्थान पर चले जाते हैं। अन्य शिक्षकों से विचार-विमर्श करने पर भी अनुभव इसी प्रकार के मिले। प्राचार्या श्रीमती निर्मला कुमारी एम ने इन अनुभवों को सकारात्मक गंभीरता से लेकर अवलोकन के निर्देश दिये। इसी दौरान एनसीईआरटी की नवाचारी परियोजना के पटल ने विचार को मुक्त आकाश दे दिया। अनुसंधान तार्किक रूप क्रियात्मक अनुसंधान (Action research) का एक वैशिष्ट्यपूर्ण रूप होगा, यह तय कर लिया गया।
2. उद्देश्‍य : सीखने की प्रक्रिया का अंतिम निर्णायक तत्व यही माना जाना चाहिए की शिक्षक की क्रियाओं पर अंततः विद्यार्थी की प्रतिक्रिया किस रूप में उत्साहजनक है। हमारे विशिष्ट संदर्भ में इस उत्तेजक प्रतिक्रिया एक बड़ा हिस्सा कहीं भाषायी अवरोध के कारण तो नहीं दबा हुआ, यह देखना परियोजना का महत्वपूर्ण और प्राथमिक संस्कार था ।
हमारे सामने तार्किक रूप से यह देखने का उद्देश्य भी था कि यदि विद्यार्थी को शब्द-चित्र की पहचान उसके अनुभवों का संयोजन है जो उसे आगे का ज्ञान से जोड़ता है तो हमारे सामने अपनी बहुभाषी कक्षा के प्रत्येक सदस्य की विशिष्टता को ध्यान में रखना एक चुनौती थी, कम से कम एक भाषा-समूह को एक इकाई मानते हुए भी। तो क्या हर भाषा-भाषी विद्यार्थी के लिए गतिविधि का चयन महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकेगा।
गतिविधियों को लेकर यह भी आवश्यक था कि हमारी विशिष्ट कक्षा में सीखने-सिखाने की प्रक्रिया केवल सामान्य अकादमिक न होकर सामुदायिक,सांस्कृतिक और भाषायी सौहार्द का जरिया भी तो बन सके। जैसा कि इस प्रकार के वातावरण में उद्देश्य होना चाहिए।
इतना ही नहीं, इस परिवेश का ध्यान रखा जाना विभिन्न गतिविधियों के माध्यम शिक्षक-शिक्षार्थी सम्बन्ध को भी तय करता है। हमारे विशिष्ट परिप्रेक्ष्य में यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है।
राष्ट्रीय पाठ्श्चर्या-2005 तक आते हुए निश्चित रूप से यह तथ्य और मजबूती से स्थापित हुआ कि सीखने की प्रक्रिया किस प्रकार गतिविधियों के माध्यम से जीवंतता पाते हुए कक्षा की दीवारों से बाहर जाती है।
इन्हीं उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए परियोजना का शीर्षक विहित किया गया। इस शीर्षक में निहित है कि-
1. बहुभाषी कक्षा में विद्यार्थियों के सीखने व उन्हें सिखाने की प्रक्रिया को चुनौती के रूप लेना।
2. पाठ्यवस्तु को विद्यार्थियों को हृदयंगम् कराने के लिए इस प्रकार गतिविधि की योजना करना ताकि विभिन्न मातृभाषा वर्ग की शक्ति का लाभ उठाते हुए कक्षा में अधिगम का स्तर उठाया जा सके।
नवाचारी परियोजना की अभिकल्पना करते समय तार्किक रूप से हमारे समक्ष कुछ प्रमुख बिन्दु इस प्रकार थे-
1. विद्यालय की प्रत्येक कक्षा की बहुभाषिकता: जैसा कि इंगित किया है कि केन्द्रीय विद्यालय दोणिमलै की प्रत्येक कक्षा का बहुभाषी वातावरण विशिष्ट रूप से तार्किक पटल है।
2. अनुवाद की समस्या: बहुभाषी कक्षा में माध्यम की भाषा के साथ-साथ प्रभावी सम्प्रेषण हेतु मातृभाषा में अनुवाद किस प्रकार किया जाए।
3. कक्षा की न्यूनतम ग्रहणशीलता तय करना: अलग-अलग मातृभाषायी संस्कार-चित्रों को लेकर एक ही कक्षा में उपस्थित विद्यार्थियों के समुच्चय की न्यूनतम ग्रहणशील संवेदना (Common Minimum Receiving Sensitivity)– CMRS नामक मौलिक पद का सृजन परियोजना की तार्किक समुपस्थित कs प्रस्थान हेतु किया गया।
4. मंदगति अधिगम की धारणा बहुभाषी कक्षा के अनुसार तय करना।
5. कक्षा प्रबंधन को बहुभाषी परिवेश के अनुसार ढालकर उसका अधिगम के लिए सकारात्मक दोहन करना।
इसका उद्देश्य यह भी था कि यह आलोकित करे, कि- बहुभाषिक कक्षाओं विशेषकर दक्षिण-भारतीय परिवेश में कक्षाओं में शिक्षण की वैशिष्ट्ययुक्त परिस्थितियाँ क्या हैं तथा इन परिस्थितियों में शिक्षण के लिए शिक्षकों के सामने क्या-क्या चुनौतियाँ उपस्थित हैं? केन्द्रीय विद्यालय दोणिमलै जैसे परियोजना-क्षेत्र इस संदर्भ में वस्तुनिष्ठ रूप से ऐसे मार्गदर्शी अनुभव संजोने के उपयुक्त स्थल हैं जहाँ विद्यार्थियों और शिक्षकों के पास बहुभाषिक संरचना की संपदा उपलब्ध है। यह परियोजना एनसीएफ-2005 तथा तदनुरूप सीसीई ग्रेडिंग पद्धति के प्रकाश में नये आयामों को अंशदान देने वाली सिद्ध हो सके।

3.प्रविधि एवं मानव व गैर-मानव संसाधन –
क-क्षेत्र एवं लक्ष्य-समूह के स्तर पर : परियोजना का क्षेत्र केन्द्रीय विद्यालय दोणिमलै रखा गया। विद्यालय में प्रथम चरण में कक्षा-3 से कक्षा-12 वीं तक की 20 कक्षाओं के कुल 685 विद्यार्थियों का भाषा-सर्वेक्षण किया गया। इन कक्षाओं में से नवाचारी प्रयोग के लिए चुनी गई विभिन्न 10 नमूना कक्षाएँ प्रयोग एवं अनुसंधान के लिए चयनित की गईं। इसमें 10 प्रकार से अधिक विविध मातृभाषाओं वाले कुल 291 विद्यार्थियों की भाषाई संरचना का सांख्यिकीय अध्ययन किया गया।
ख- परियोजना-दल के स्तर पर : बिन्दु क्रमांक 4 (ग) के अनुसार गठित 11 सदस्यीय परियोजना दल के अलावा 3 अन्य कक्षा-शिक्षक, 02 विशेष आमंत्रित सदस्यों का सहयोग भी लिया गया।
ग-मित्र-छात्र दल के स्तर पर : परियोजना में अध्ययन-अनुसंधान के लिए प्रत्येक कक्षा से विद्यार्थियों का दल निर्मित किया गया।
घ-तकनीक एवं प्रणाली के स्तर पर : परियोजना संचालन में तथ्य-संकलन, समूह-चर्चा, परियोजना-दल का आंतरिक-संवाद, परियोजना-दल एवं छात्र-मित्र दल से संवाद। विशेष परियोजना-कक्ष में विद्यार्थियों के साक्षात्कार एवं चर्चाएँ, कक्षाओं में विशेष उद्देश्य के साथ परियोजना-दल द्वारा नियमित शिक्षण। दृश्य-श्रव्य अनुभव वास्तविक अनुभव के अत्यंत निकट होते हैं। यह ध्यान में रखते हुए गतिविधि का एक हिस्सा डिस्प्ले आधारित रखा गया। वस्तुनिष्ठ संवादों का अभिलेखीकरण एवं दृश्य-श्रव्य रिकॉर्डिंग आदि प्रणाली व कार्य-तकनीक का इस्तेमाल किया गया। परियोजना की सम्पूर्ण अवधि में विद्यार्थियों की गतिविधियों, साक्षात्कार, संवाद आदि की लगभग 15 घंटे की वीडियो रिकॉर्डिंग की 16 जीबी परिमाण की 6 डीवीडी संलग्न की गई हैं, जो परियोजना के प्रत्यक्ष क्रियान्वयन का प्रमाण हैं, साथ ही कई नये तथ्यों पर सीधा प्रकाश भी डालती हैं।
अपनी मौलिक आवश्यकताओं के अनुरूप कार्यान्वयन के चरण स्पष्ट रूप से संचालित किये गये। इस दौरान लगातार गतिविधियाँ होने से सभी 10 प्रायोगिक कक्षाओं का वातावरण अभूतपूर्व हो गया :-
1. कक्षा-अध्यापकों के माध्यम से प्रत्येक कक्षा की भाषायी स्थिति का आंकलन प्रारूप एफ-1ए तथा एफ-1 बी के अनुसार किया गया। चुनी गई कुल 10 कक्षाओं के 685 विद्यार्थियों की बहुभाषिक स्थिति अपने आप में अद्वितीय है। इसमें 10 से अधिक प्रकार की मातृभाषा वाले विद्यार्थियों के 10 से अधिक प्रकार की अन्य भाषाज्ञान का पता चलता है। 10 कक्षाओं को 11 संकाय सदस्यों द्वारा ‘प्रत्येक एक’के अनुसार चुना गया।
2. सबसे पहले किसी एक कक्षा को संबंधित संकाय सदस्य ने प्रयोग के लिए चुना। उस कक्षा का भाषा-सर्वेक्षण संकाय-सदस्य को सौंप दिया गया। इस प्रकार कुल 10 कक्षाओं में प्रयोग हुए।
3. शिक्षक ने सर्वप्रथम प्रारूप- एफ-2 ए के अनुसार कक्षा को तीन हिस्सों में बाँटा। इसमें भाषायी आधार को विशेष ध्यान में रखते हुए चुनौतीपूर्ण, औसत और सहज अधिगम वाले विद्यार्थी समूह वगीकृत किये गये।
4. प्रारूप एफ-2 बी के अनुसार संवाद-मित्र : सभी 10 कक्षाओं में शिक्षकों द्वारा भाषायी आधार पर समूह बनाते हुए एक-एक मेधावी भाषा-संवाद-मित्र (दल-नायक) चुने गए।
5. पाठ्यपुस्तक में संकलित पाठ्यक्रम-आधारित वे अवधारणायें या प्रकरण चुने गए, जो आगामी मूल्यांकन (सीसीई कक्षाओं में संकलित मूल्यांकन-2 व रचनात्मक-मूल्यांकन-3/4) का हेतु हैं, ताकि कक्षाओं की स्वाभाविक गतिशीलता में प्रयोगों के कारण समय-सीमा प्रभावित न हो। गतिविधियों के स्तर भी अलग-अलग रखे गए- यथा- कक्षा-कक्ष स्वाभाविक शिक्षण, उपकरणों के माध्यम से प्रदर्शन-विधि, कक्षा-कक्ष के बाहर गतिविधि, समूह-विभाजन एवं विद्यार्थियों से साक्ष्य-पूर्ण संवाद।
6. अनुसंधित्सु संकाय-सदस्यों को इस सम्बन्ध में सचेत रहते हुए सभी अवलोकनों को प्रारूप एफ-3ए तथा एफ-3 बी में पंजीबद्ध करने के लिए कहा गया कि कक्षा में बहुभाषी परिवेश को ध्यान में रखकर कक्षा की न्यूनतम ग्रहणशील संवेदना (सीएमआरएस) में प्रयोगपूर्व व पश्चात क्या परिवर्तन होता है।
7. प्रत्येक समूह के विद्यार्थियों की तीन-तीन स्कैनिंग पूर्व व पश्चात की गईं। इसमें लिखित और मौखिक दोनों प्रदर्शनों को समान महत्व दिया गया। आवश्यकतानुसार मूल्यांकन में ग्रेडिंग पद्धति वाली लचीली सीमा का भी पालन किया गया। प्रयोग पश्चात भी तीन-तीन स्कैनिंग की गईं। विद्यार्थियों द्वारा बताए गए तथ्यों को सीधे साक्ष्य के रूप में विजुअल रिकॉर्ड भी किया गया।
8. अध्ययन के ये सभी चरण इस प्रकार निर्धारित किये गए जिससे अध्ययन व्यक्तिपरक हो और परिणाम समूह/कक्षा सम्प्रेषणपरक। अर्थात जानने की दिशा यह थी कि बहुभाषी कक्षा में अधिगम की चुनौतियां क्या हों और गतिविधियों का भाषा-समूह पर क्या प्रभाव है।
4.परिणाम एवं प्राप्‍तियॉं :- इस परियोजना के खण्ड 3.3 की विभिन्न गतिविधियों और विभिन्न भाषा समूहों के साथ एक जैसा प्रयोग करने पर यह तथ्य सामने आया कि :-
1. बहुभाषी कक्षा में विद्यार्थियों की ओर उनकी मातृभाषा में संकल्पना को पहुँचाने अथवा बहुभाषायी कक्षा-परिवेश को ध्यान में रखकर की गई गतिविधि से वे तथ्यपरक और आत्मपरक रूप से उसे हृदयंग करने में सक्षम होते हैं।
2. उच्चतर कक्षाओं की अपेक्षा माध्यमिक व प्राथमिक कक्षाओं में विद्यार्थी अधिगम्यता में उल्लेखनीय परिणाम स्पष्टतः सामने हैं।
3. गणित व अन्य तकनीकी विषयों में विशेषतः मंदगति अधिगम वाले विद्यार्थियों के लिए मातृभाषा आधारित गतिविधियाँ उल्लेखनीय भूमिका निभाती हैं।
4. इस परियोजना के दो पक्ष- मातृभाषा/मूल भाषा ज्ञान के आधार पर अध्यापन एवं गतिविधियों का विस्तार, दोनों ही अधिगम्यता को बढ़ाने वाले सिद्ध होते हैं। परियोजना अपने परिणामों में यह अनुशंसा रखने की स्थिति में है कि गतिविधियों को बढ़ाया जाना बहुभाषी-कक्षा की अधिगम्यता को बढ़ाने में अत्‍यंत कारगर, और कहीं-कहीं एकमात्र विकल्‍प है।
5. परियोजना मौलिक रूप इस विशिष्ट परिस्थिति में बहुभाषी-कक्षा की जिस न्यूनतम ग्रहणशील संवेदना (Common Minimum Receiving Sensitivity (CMRS) की बात करती है, वह पूर्वज्ञान की अवधारणा में परिवर्तन करने वाला कारक है। बहुभाषी कक्षा में विद्यार्थियों का पूर्वज्ञान तय करते समय शिक्षक इस तथ्य की उपेक्षा नहीं कर सकता कि उसके सामने अलग-अलग भाषा-संस्कार चित्रों के विद्यार्थी हैं। अतः उसकी पाठ-योजना का प्रस्थान-बिन्दु निर्धारित करने में यह परियोजना महत्वपूर्ण परिणाम दे रही है।

5.शैक्षणिक सुधार के क्षेत्र में सुझाव :- यह परियोजना बहुभाषी कक्षा में भाषायी आधार पर अधिगम-प्रक्रिया के निर्धारण तथा गतिविधियों द्वारा सर्वभाषाभाषी-समुदाय के प्रति अधिगम्यता को सरलीकृत रूप में पहुँचाने की वकालत करती है। साथ ही मूल भाषायी-संस्कारों की उपेक्षा का विरोध करती है।
परियोजना संस्थागत-सुधार को जिस रूप में पुष्ट करती है उससे संस्था की सामाजिक-मानवीय गरिमा में अभिवृद्धि तय की जा सकती है। विद्यार्थियो के मातृभाषायी संस्कारों को समुचित अनुशासन के साथ अधिगम प्रक्रिया में स्थान देकर संस्था राष्ट्रीय पाठश्चर्या-2005 एवं व्यापक व सतत मूल्यांकन (सीसीई) की मूल भावना को ही एक आयाम देने का कार्य करती है। वास्तव में परियोजना की प्रेरणा से संस्था में अधिक गतिविधियों के विस्तार, प्रदर्शन-विधियों, कक्षा के बाहर की गतिविधियों एवं मूल्यांकन के नये आयामों का जगह मिलती है। परियोजना इन्हीं उद्देश्यों से संस्थागत सुधार में स्वयं को सफल मानती है।
यदि संस्थान इस परियोजना की संस्तुतियों के आधार पर स्थानीय भाषा के समुचित उपयोग के अवसर प्रदान करता है तो समाज में शिक्षण संस्थानो के प्रति, चाहे वे किसी भी माध्यम में शिक्षा दे रही हैं, उनके प्रति एक लोकतांत्रिक तथा संवैधानिक सम्मान की भावना पैदा होती है जो समाज में एक समरसता पैदा करती है। विभिन्न समुदायों को निकट लाती है और राष्ट्रीय एकता के एक महत्वपूर्ण आधार भाषा को उपेक्षित होने से बचाती हैं। परियोजना का यह स्पष्ट मंतव्य सामने आया है कि विभिन्न भाषाओं की अस्मिता को बचाये रखने और भारतीय भाषाओं की सुरक्षा के लिहाज से यह कदम अत्यंत दूरगामी होगा, ताकि अपनी मातृभाषा की लिपि से दूर हो चुके हमारे विद्यार्थी भविष्य में सर्वथा मूल भाषायी संस्कारों को न खो बैठें।
””””””””””

An innovative project By K.V. Donimalai-583118,Distt-Bellary,Karnataka.
Team Leader – Mrs. Nirmala Kumari M., Principal
Coordinator – Dr. Ramkumar Singh, PGT-Hindi
Faculty Members – Mr. T.V.Loganathan, PGT- Commerce; Mr. PIT Raja, PGT (Biology); Mr. Ajmer Singh, PGT-Computer Science; Mr.MS Kumar Swamy, TGT-Mathematics; Mr. Balendra Pratap Singh, TGT- Social Studies; Mr. Roopchand, TGT-Sanskrit, Mr. Abdul Gaffur, PRT; Mr. Kasim Mansoor, PRT; Mr. K.Akhil, PRT
राष्ट्रीय पाठश्चर्या-2005 के भाषा सम्बन्धी अध्याय 3.1 के महत्वपूर्ण सुझाव अवलोकनीय

“Teaching is undertaken so that learning can occur. Hence the sources of any lesson can best be judged in terms of the learning that results from it, in terms of the learners’ reactions to the teacher’s reaction.” ‘Class room interaction’ , Ann malamath – Thomas; ELBS with Oxford university press.(Page no 5)
“ Word recognition is the only means to the appreciation of written material. For the most part of the word recognition skills are useful only with words already in child’s speaking vocabulary.” _ “Sight words are the basis of all word recognition activities. Repetition appears to be necessary in the rote learning of sight vocabulary. Avtive response ensure the learner is attending to the teaching situations and also aids learning.”- ‘Reading: Teaching and Learning’ Page no 122, Terry D. Johnson ; English language book society and Macmillan Education 1982.
“ Life of people can be improved only when they are enabled to solve their problems, economic, social religious and political. The problem today is, how our schools can best help all our children and youth to participate effectively and with the personal satisfaction in the enduring process of learning. How can teachers sensitize them to the intolerable disparities of human circumstance, stimulate in them a feeling of personal responsibility for remedying the evils they see, give them knowledge and skills necessary for intelligent judgement and action and inculcate in them unfailing loyalty to democratic ideals and practices? This is the problem of our generation.” ‘Working with community and teaching education’, Page no 20, J. S. Grewal & B. S. Gupta; Ram Prasad and sons ; Bhopal

“Common Minimum Receiving Sensitivity (CMRS) : कक्षा की न्यूनतम ग्रहणशील संवेदना से आशय है कि कक्षा के विद्यार्थी अधिगम प्राप्त करते समय न्यूनतम रूप से जिन सम्प्रेषणों को ग्रहण कर लेने में सक्षम होते हैं। इसके लिए विभिन्न आधार हो सकते हैं। यथा कक्षा में मंदगति अधिगम वाले विद्यार्थियों, औसत अधिगम वाले विद्यार्थियों व सहज अधिगम वाले विद्यार्थियों में स्पष्टतः ग्रहणशीलता Receiving Sensitivity का मान अलग-अलग होगा। इस स्थिति में कक्षा की न्यूनतम ग्रहणशील संवेदना उस अंतिम विद्यार्थी की ग्रहणशीलता के तुल्य होगी जिके प्रति सबसे कम अधिगम का स्थानांतरण हुआ है। बहुभाषी कक्षा में सीएमआरएस को बढ़ाना हमारी परियोजना का तार्किक लक्ष्य था। तथा इसके लिए उपकरण मातृभाषा रखा गया। इस पद का मान बढ़ाने का आशय एक साथ कई मंदगति अधिगम विद्यार्थियों के लिए अधिगम के स्थानांतरण में मात्रात्मक और गुणात्मक अभिवृद्धि करना है ताकि कक्षा की सीएमआरएस में सामूहिक प्रयासों से अभिवृद्धि हो। क्यों कि इसे बढ़ाने का अन्य तरीका केवल मंदगति अधिगम विद्यार्थियों में से प्रत्येक पर व्यक्तिगत शिक्षण करना है जो कि कक्षा की सामूहिक अवधारणा के साथ व्यावहारिक दृष्टि से संभव नहीं होता है।

—– शुभम—–

Advertisements

2 responses to “एनसीईआरटी द्वारा पुरस्‍कृत परियोजना का सारांश

  1. All d efforts we took behind d screen are remembering now with a sweet smile….!!!
    You words are true…We can eat the fruits of this tree many more years….(“APAR” ha…ha…ha…)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s