हाथ हिलाता है स्कूल का पेड़ /नई पत्ती निकल आई है : Farewell special

बचपन की सुनहरी स्‍मृतियों को साथ लेकर जिस स्‍कूल में जीवन में एक बड़ा हिस्‍सा बीता हो वहॉं से जाते समय जो भावनाएं उमड़तीं हैं उन्‍हें शब्‍दबद्ध करना बहुत मुश्‍किल है। फिर भी ये विदाई गीत कक्षा 12 वीं के विद्यार्थी जो जा रहें हैं उनके लिए लिखा और संगीतबद्ध किया है। 11 वीं विद्यार्थी उनके लिए गा रहे हैं, ……….
विदाई गीत :

जाओगे तुम यहॉं से
सोचोगे हम कहॉं
सुनहरे पल जो आए थे
यहॉ तुमने बिताए थे
याद करोगे वहां।।।।।
नये जीवन की सौगातें
तुम्हें बाहर बुलाती हैं
ये स्कूल की दीवारें
नहीं तुमको भुलाती हैं
जाओ तुम चाहे जहां।।।।
तुम्हारे दोस्त ये सारे
नहीं तुमको सताएंगे
तुम्हें खुद ही वहां जाकर
ये इतने याद आएंगे
भूल न जाना वहां।।।।
go out to serve your country and Countrymen

हिन्दी गजल : पढ़े जाने को

इम्तिहान की घड़ी आई है।
आज वरिष्ठों की विदाई है।
मैं जिसे डांटता था वो लड़की
आखिरी हस्ताक्षर लेने आई है।
गुस्सा होते थे बड़े सर
उनकी भी आंख भर आई है।
जहां बैठता था वो बैंच
खाली-खाली नजर आई है।
बहुत बातूनी थी मेरा दोस्त
उसके दिल में भी रुलाई है।
हाथ हिलाता है स्कूल का पेड़
नई पत्ती निकल आई है।
बहुत छोटी है ये दुनियां
फिर मिलें – ये उम्मीद जताई है।

Advertisements

3 responses to “हाथ हिलाता है स्कूल का पेड़ /नई पत्ती निकल आई है : Farewell special

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s