दो लघुकथाऍं: ‘सरकारी पेड़’ और ‘कम्‍मू की डुकरिया’

‘सरकारी पेड़’

‘‘क्यों रे क्या कर रहा है !!!!!’’
सराय चौकी की पिछली दीवार के किनारे से झांकते हुए सिपाही ने तमककर कहा।
‘‘बेरि टोरि रओं ऐं’’
(बेर तोड़ रहा हूँ)
‘‘ये सरकारी बेर हैं रे!!!!’’
‘‘सिरकारू ऐं ?’’
(सरकारी हैं क्या ?)
‘‘हां’’
‘‘तो……..’’
‘‘तोड़ मत….!! और क्या!!!!’’
‘‘तईं …..जि …..का ……सिरकारू एँ’’
(तो…..ये…..क्या सरकारी हैं?)
‘‘और क्या बक रहा हूं ?’’
‘‘सिरकारू ऐं तोऊ रोकतो????????’’
(सरकारी हैं तो भी रोकते हो?)
……कहता हुआ ठेंगना-स, काला लड़का अपने अण्डरवियर का नाडा पकड़े हुए दूसरी तरफ कूदकर भाग गया।

कम्मू की डुकरिया’

कम्मू की डुकरिया मर गई। डुकरिया की आत्मशांति के लिए मृत्युभोज-परामर्शदात्री-अघोषित-समिति से निम्नलिखित परामर्श प्राप्त हुए-
एक- ‘‘घरघन्ना नई चूलि’’
(हर घर से एक आदमी का नहीं, सपरिवार निमंत्रण हो)
दो- ‘‘पन्द्रे बोरी गलाऊ’’
(15 बोरियां शक्कर के अनुपात में भोजन बने)
तीन – ‘‘नोन ते हिसाब लगाऊ, तीनि कट्टा नोन)
(नमक से अनुपात मिला लो, 3 कट्टे नमक से जितनी सब्जी बने उसी अनुपात से हर माल बने)
चार – ‘‘घलिमा मालपुआ, छुट्टा’’
(मालपुआ छककर, खूब, जितना चाहें)
………अंतिम फैसले की जानकारी नहीं। कम्मू के द्वार से साफा वाले, मूंछ वाले, अलग-अलग पुरा वाले ‘प्रतिष्ठित’ पंच मामला फायनल कर चले गये।
तेरहवीं निबट गई।
कम्मू भी निबट गया।

Advertisements

कविता : मीडिया-विमर्श …..’लो-प्रोफाइल’

कविता : मीडिया-विमर्श

लो-प्रोफाइल
वह
न तो ब्यूरो में जा पा रहा है
न सिटी-संस्करण में
खास ओहदे पर
यदा-कदा मिल जाती है
लूप लाइन – डेस्क
या फिर लिखते रहो
फीचर टाइप कुछ!
इसमें मुख्य-धारा नाम का
नहीं दिखता उसे कोई फ्यूचर
वह मेहनती है
तथ्यान्वेषी है
प्रभावित कर सकता है नीतियां
सत्ता-शासन के आवरण को
उघाड़कर
मगर पत्र-समूह –
जिसे अब ‘कम्पनी’ कहा जाने लगा है
उसमें वह
स्वत्वाधिकारी के
जन्मदिन, विवाह दिन इत्यादि
याद नहीं रख पाता
हाई-प्रोफाइल पार्टियों में
मैनेजिंग डायरेक्टर को
नहीं कर पाता रिसीव
वह गजब का पत्रकार है,
ऐसा उसे लगता है, औरों को भी
मगर,
‘कम्पनी’ की परिभाषा में
व्ह
‘लो-प्रोफाइल’ है………