पत्‍थरों पर इतिहास – हम्‍पी : द हिस्‍ट्री ऑन स्‍टोन

जब ठहरी निगाह…………….
बैंगलूर हवाई अड्डे पर उपरी तल्‍ले पर मंहगी सजी-दुकान पर एक किताब कांच में सजी है। आकार बडी रामायण सरीखा। निगाह ठहर जाती है। किताब पर एक चित्र है –पथरीला। अंग्रेजी की इस किताब का शीर्षक है – द हिस्‍ट्री ऑन स्‍टोन। किताब हम्‍पी के बारे में है।

किताब देखकर हम्‍पी के प्रति आकर्षण बढ गया । लगा कि इतने दिनों से दोणिमलै में हूं। महज डेढ- दो घंटे के फासले पर हम्‍पी है। वहां तुंगभद्रा बांध के विद्यालय में भी कुछ अरसा पढा चुका हूं। मगर हम्‍पी जाने का योग न बना सका। आखिर एक दिन चलने का भूत सवार हुआ और निकल पडा पत्‍थरों पर इतिहास देखने।

कॉमिक्‍स से इतिहास तक……….

बचपन से ही तेनालीराम की चतुराई सुनते रहे। और मनोमष्‍ितष्‍क के मिथकीय साहित्‍य में बीरबल के बगल तेनालीराम विराजते रहे। विजयनगर साम्राज्‍य के बारे में इतिहास की किताबें बताती हैं कि इस राज्‍य की स्‍थापना हरिहर और बुक्‍का नाम के दो भाइयों ने की। ये दोनो भाई वारंगल के काकतीय राजा प्रतापरूद्रदेव की सेवा में थे। दक्षिण भारत पर मुस्‍िलम प्रभुत्‍व हो गया तो दोनों भाई वहां से कैद कर दिल्‍ली लाए गए, परन्‍तु जब दक्षिण में वहां शांति और सुव्‍यवस्‍था बनाए रखना कठिन हो गया तो तुगलक सुल्‍तान ने हरिहर और बुक्‍का को मुक्‍त कर उन्‍हें रायचुर दोआब का सामन्‍त बनाकर भेज दिया(जब भी गुंतकल स्‍टेशन की प्रतीक्षा में रायचुर स्‍टेशन से ही ताकना शुरू करता हूं तो रायचुर रेलवे बोर्ड देखकर लगता है रायचुर के उस प्रभावशाली दोआब का ऐतिहासिक हिस्‍सा बन गया हूं तो राजाओं के शक्‍ति-प्रदर्शन का केन्‍द्र रहा) । कहा जाता है कि इन दोनों भाइयों का परम सहायक तथा नेता उस समय का प्रकाण्‍ड पंडित विद्यारण्‍ड था। जिसने इस वंश की उसी प्रकार सहायता की जिस प्रकार आचार्य कौटिल्‍य ने चन्‍द्रगुप्‍त मौर्य की की थी। अपने गुरू तथा सहायक के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने के लिए इन दोनों भाइयों ने तुंगभद्रा नदी के किनारे पर विद्यानगर अथवा विजयनगर नामक नगर की नींव डाली। मुहम्‍मद बिन तुगलक के शासन-काल के अंतिम भाग में हरिहर ने अपने को स्‍वतन्‍त्र शासक घोषित कर दिया। विजयनगर में सन् 1336 से 1416 तक चार राज्‍यवंशों ने शासन किया। इनमें सन् 1505 ई से 1570 ई के तृतीय राजवंश का सबसे अधिक योग्‍य तथा प्रतिभाशाली शासक कृष्‍णदेव राय था। उसे सम्‍भवत सन् 1509 ई से 1530 ई तक शासन किया। इतिहास विवरणों के अनुसार वह बड़ा ही वीर,साहसी तथा न्‍यायप्रिय शासक था। वह एक महान विजेता तथा सफल शासक था। उसने उड़ीसा के राय को युद्ध में परास्‍त कर वहाँ की राजकुमारी के साथ विवाह किया। 1520 ई में उसने बीजापुर के सुल्‍तान आदिलशाह पर भी विजय प्राप्‍त की और उसके राज्‍य को लूटा। पश्‍चिमी समुद्र तट पर बसे हुए पुर्तगालियों के साथ उसकी मैत्री थी। इस प्रकार कृष्‍णदेव राय ने अपने बाहुबल से अपने राज्‍य की सीमा से बड़ी वृद्धि की। इससे पड़ोसी मुस्‍लिम शासकों को बड़ी ईर्ष्‍या उत्‍पन्‍न हुई और वे विजयनगर के विरूद्ध संगठित होने लगे। इतिहास यह भी बताता है कि कृष्‍णदेव राय की मृत्‍यु के उपरान्‍त सदाशिव के मंत्री राम राय ने पड़ोसी मुसलमान राज्‍यों के साथ युद्ध किया और मुसलमानों साथ बड़ा अत्‍याचार किया। मुसलमान राज्‍यों के लिए यह असह्य हो गया और अपने मतभेद भुलाकर बीजापुर, अहमदनगर, गोलकुण्‍डा तथा बीदर ने विजयनगर के विरूद्ध एक संघ बनाया। केवल बरार का सुल्‍तान इस संघ से अलग रहा।

और वो दिन जब दुनिया का एक महान सुव्‍यवस्‍िथत नगर अचानक धराशायी कर दिया गया…………………………………..

सन् 1564 ई के अंतिम सप्‍ताह में मुसलमानों ने विजयनगर राज्‍य पर आक्रमण कर दिया। तालीकोट नामक स्‍थान पर, जो कृष्‍णा नदी के किनारे पर स्‍िथत है, दोनों सेनाओं में घमासान युद्ध आरम्‍भ हो गया। रामराय युद्ध में परास्‍त हो गया और उसका वध कर दिया गया। हिन्‍दुओं का बड़ी नृशंसतापूर्वक बध कर दिया गया। इसके बाद विजयी सेना ने विजयनगर की ओर कूच किया और नगर को खूब लूटा। शत्रु विजयनगर को नष्‍ट करने आये थे। अतएव उन्‍होंने यथाशक्‍ित उसका विनाश किया।

कर्नाटक के सांस्‍कृतिक उत्‍सवों, राजकीय महोत्‍सवों और राज्‍य की स्‍थापना की वर्षगाँठ के अवसरों पर जो कार्यक्रम और गीत मैं सुना करता हूँ उनमें विजयनगर की सांस्‍कृतिक विरासत निवासियों के रग-रग में बसी है। वे अपनी अस्‍मिता और आत्‍मगौरव के साथ इसे सम्‍बद्ध करते हैं, खासकर जो सांस्‍कृतिक पहचान इसकी रही।

फोटो – गैलरी / हम्‍पी और उसके आसपास

(तुंगभद्रा तट पर विजयनगर, हम्‍पी)


(तुंगभद्रा तट)


(उग्र नरसिंह मंदिर)


(मीनाक्षी मंदिर)


(तुंगभद्रा में स्‍नान करता राजकीय हाथी, जापानी बालक, सर्जना के कैमरे में)


(हम्‍पी का विश्‍व प्रसिद्ध पत्‍थर का रथ, स्‍टोन व्‍हील)


(हम्‍पी के विटृठल मंदिर का प्रांगण)


(विटठल मंदिर का तोरण द्वार)

Advertisements

2 responses to “पत्‍थरों पर इतिहास – हम्‍पी : द हिस्‍ट्री ऑन स्‍टोन

  1. ‘पत्थरों पर इतिहास -हम्पी’ पढ़कर एतिहासिक जानकारी मिली । विद्यार्थियों के लिए एक अच्छा ज़रिया है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s